Posted on

दुर्गा माँ की आरती – Durga Aarti – Durga Ji ki Aarti

durga maa arti english

Durga Aarti

जय माँ दुर्गा | आपके लिए मैंने ये आरती एक चित्र के रूप में और लिखित रूप में लिखी है | उम्मीद है की  माँ की आरती का चित्र आपको पसंद आयेगा और आप इसका जरुर इस्तेमाल करेंगे माता को याद करने के लिए और उनकी पूजा करने के लिए |

Durga Aarti In English

durga ma english
durga ma english

Aarti Shri Durgaji 

Ambe Tu Hai Jagadambe Kali, Jai Durge Khappara Wali,

Tere Hi Guna Gaven Bharati, O Maiya Hama Saba Utare Teri Aarti।

Tere Bhakta Jano Para Mata Bhira Padi Hai Bhari।

Danava Dala Para Tuta Pado Maa Karake Sinha Sawari॥

Sau-Sau Sihon Se Balashali, Hai Ashta Bhujaon Wali,

Dushton Ko Tu Hi Lalakarati।

O Maiya Hama Saba Utare Teri Aarti॥

Maa-Bete Ka Hai Isa Jaga Mein Bada Hi Nirmala Nata।

Puta-Kaputa Sune Hai Para Na Mata Suni Kumata॥

Saba Pe Karuna Darshane Wali, Amrita Barasane Wali,

Dukhiyon Ke Dukhade Nivarati।

O Maiya Hama Saba Utare Teri Aarti॥

Nahin Mangate Dhana Aur Daulata, Na Chandi Na Sona।

Hama To Mangen Tere Charanon Mein Chhota Sa Kona॥

Sabaki Bigadi Banane Wali, Laja Bachane Wali,

Satiyon Ke Sata Ko Sanwarati।

O Maiya Hama Saba Utare Teri Aarti॥

Charana Sharana Mein Khade Tumhari, Le Puja Ki Thali।

Varada Hasta Sara Para Rakha Do Maa Sankata Harane Wali॥

Maa Bhara Do Bhakti Rasa Pyali, Ashta Bhujaon Wali,

Bhakton Ke Karaja Tu Hi Sarati।

O Maiya Hama Saba Utare Teri Aarti॥

Durga Aarti In Hindi

आरती श्री दुर्गाजी 

durga ma english
durga ma english

अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली,

तेरे ही गुण गावें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती।

तेरे भक्त जनो पर माता भीर पड़ी है भारी।

दानव दल पर टूट पड़ो माँ करके सिंह सवारी॥

सौ-सौ सिहों से बलशाली, है अष्ट भुजाओं वाली,

दुष्टों को तू ही ललकारती।

ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥

माँ-बेटे का है इस जग में बड़ा ही निर्मल नाता।

पूत-कपूत सुने है पर ना माता सुनी कुमाता॥

सब पे करूणा दर्शाने वाली, अमृत बरसाने वाली,

दुखियों के दुखड़े निवारती।

ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥

नहीं मांगते धन और दौलत, न चांदी न सोना।

हम तो मांगें तेरे चरणों में छोटा सा कोना॥

सबकी बिगड़ी बनाने वाली, लाज बचाने वाली,

सतियों के सत को संवारती।

ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥

चरण शरण में खड़े तुम्हारी, ले पूजा की थाली।

वरद हस्त सर पर रख दो माँ संकट हरने वाली॥

माँ भर दो भक्ति रस प्याली, अष्ट भुजाओं वाली,

भक्तों के कारज तू ही सारती।

ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥

 

Durga Aarti In Hindi and English

Posted on

Aarti Gajabadana Vinayaka Ki

aarti gajabadana vinayaka ki hindi

Aarti Gajabadana Vinayaka Ki

गणपति महाराज की और गजबदना विनयक जी की में आपके लिए लेके आयी हूँ, उम्मीद है आपके जरुर काम आयेगे | गणपति वंदन जरुर होना चाहिए| वैसे भी अगर आपने सबसे पहले गणपति जी की पूजा और आरती नही गयी आपकी पूजा सफल नही मानी जाती| उनको ये आशीर्वाद उनके पिता शिवजी ने दिया था|

aarti gajabadan vinayaka ki english
aarti gajabadan vinayaka ki english

Aarti Gajabadana Vinayaka Ki

Aarti Gajabadana Vinayaka Ki। Sura-Muni-Pujita Gananayaka Ki।। x2
Aarti Gajabadana Vinayaka Ki॥
Ekadanta Shashibhala Gajanana, Vighnavinashaka Shubhaguna Kanana।
Shivasuta Vandyamana-Chaturanana, Dukhavinashaka Sukhadayaka Ki॥
Aarti Gajabadana Vinayaka Ki॥
Rishi-Siddhi-Swami Samartha Ati, Vimala Buddhi Data Suvimala-Mati।
Agha-Vana-Dahana Amala Abigata Gati, Vidya-Vinaya-Vibhava-Dayakaki॥
Aarti Gajabadana Vinayaka Ki॥
Pingalanayana, Vishala Shundadhara, Dhumravarna Shuchi Vajrankusha-Kara।
Lambodara Badha-Vipatti-Hara, Sura-Vandita Saba Vidhi Layakaki॥
Aarti Gajabadana Vinayaka Ki॥

Aarti Gajabadana Vinayaka Ki In Hindi

aarti gajabadana vinayaka ki hindi
aarti gajabadana vinayaka ki hindi

आरती गजबदन विनायककी
आरती गजबदन विनायककी। सुर-मुनि-पूजित गणनायककी॥ x2
आरती गजबदन विनायककी॥
एकदन्त शशिभाल गजानन, विघ्नविनाशक शुभगुण कानन।
शिवसुत वन्द्यमान-चतुरानन, दुःखविनाशक सुखदायक की॥
आरती गजबदन विनायककी॥
ऋद्धि-सिद्धि-स्वामी समर्थ अति, विमल बुद्धि दाता सुविमल-मति।
अघ-वन-दहन अमल अबिगत गति, विद्या-विनय-विभव-दायककी॥
आरती गजबदन विनायककी॥
पिङ्गलनयन, विशाल शुण्डधर, धूम्रवर्ण शुचि वज्रांकुश-कर।
लम्बोदर बाधा-विपत्ति-हर, सुर-वन्दित सब विधि लायककी॥
आरती गजबदन विनायककी॥

Aarti Gajabadana Vinayaka Ki

Posted on

Jai Ambe Gauri Aarti in Hindi and English

Jai Ambe Gauri Aarti

Jai Ambe Gauri Aarti in Hindi and English

I wrote many arties like durga ma aarti, ganesha aarti, krishna aarti and many more.Today I brought ambe maa aarti for you. Do it daily and get blessing of ambe maa. She is maa and she will take all your sorrows and will give immense happiness and success to everyone.

Jai Ambe Gauri Aarti
Jai Ambe Gauri Aarti

Maa Ambe Gauri Aarti in Hindi

 

जय अम्बे गौरी मैया, जय श्यामा गौरी,

 निशदिन तुमको ध्यावत , हरि ब्रह्म शिवजी || जय अम्बे गौरी ||

 मांग सिंदूर बिराजत, टिको मृगमद को,

 उज्जवल से दोउ नैना, चन्द्रवदन निको || जय अम्बे गौरी ||

 कनक सामान कलेवर, रक्ताम्बर राजे ,

 रक्तपुष्प गलमाला, कंठन पर साजे || जय अम्बे गौरी ||

 केहरी वहां रजत , खड्ग खप्पर धरी

 सुर-नर-मुनि-जन सेवत तिनके दुखहारी || जय अम्बे गौरी ||

 कानन कुण्डल शोभित नासाग्रे मोती

 कोटिक चन्द्र दिवाकर राजत सम ज्योति || जय अम्बे गौरी ||

 शुम्भ निशुम्भ विदारे महिषासुर-धाती

 धुरम विलोचन नैना निशदिन मदमाती || जय अम्बे गौरी ||

 चण्ड मुण्ड संहारे शोणित बीज हरे

 नाधू कैटभ दोउ मारे सुर भयहीन करे || जय अम्बे गौरी ||

 ब्रम्हाणी रूद्राणी, तुम कमलारानी

 अगम-निगम-बखानी, तुम शिव पटरानी || जय अम्बे गौरी ||

 चौसठ योगिनी गावत, नित्य करत भैरू

 बाजत ताल मृदंगा और बाजत डमरू || जय अम्बे गौरी ||

 भुजा चार अति शोभित वर मुद्रा धारी

 मनवांछित फल पावत, सेवत नरनारी || जय अम्बे गौरी ||

 कंचन थाल विराजत अगर कपूर बाती

 श्रीमालकेतु के राजत कोटि रतन ज्योति || जय अम्बे गौरी ||

 श्रीअम्बेजी की आरती जो कोई नर गावे

 कहत शिवानन्द स्वामी सुख सम्पति पावै || जय अम्बे गौरी ||

 Durgaji Ki Aarti – Jai Ambe Gauri

 

Jai ambe gauri maiya jai shyama gauri

Tumako nishadin dhyawat hari bramha shivaji || Maiya Jai..||

 

Mang sindur virajat tiko mrigamad ko

Ujjwal se dou naina chandrawadan niko || Maiya..

 

Kanak saman kalevar raktambar raje

Rakt pushp gal mala kanthan par saje || Maiya..

 

Kehari wahan rajat khadag khappar dhari

Sur-nar-munijan sewat tinake dukhahari || Maiya..

 

Kaanan kundal shobhit nasagre moti

Kotik chandr diwakar rajat sam jyoti || Maiya..

 

Shumbh-nishumbh bidare mahishasur ghati

Dhumr vilochan naina nishadin madamati || Maiya..

 

Chand-mund sanhare shonit bij hare

Madhu-kaitabh dou mare sur bhayahin kare || Maiya..

 

Bramhani rudranitum kamala rani

Agam nigam bakhanitum shiv patarani || Maiya..

 

Chausath yogini mangal gawatnritya karat bhairu

Bajat tal mridangaaru baajat damaru || Maiya..

 

Tum hi jag ki mata tum hi ho bharata

Bhaktan ki dukh harta sukh sampati karta || Maiya..

 

Bhuja char ati shobhivaramudra dhari

Manwanchhit fal pawat sewat nar nari || Maiya..

 

Kanchan thal virajat agar kapur bati

Shrimalaketu mein rajat koti ratan jyoti || Maiya..

 

Shri ambeji ki arati jo koi nar gave

Kahat shivanand swami sukh-sampatti pave || Maiya..

 

Posted on

जय जगदीश हरे -Om Jai Jagdish Hare – Aarti Jai Jagdish -Aarti Jai Jagdish Hare

Om Jai Jagdish Hare

जय जगदीश हरे -Om Jai Jagdish Hare – Aarti Jagdish Ji ki- Aarti Jai Jagdish -Aarti Jai Jagdish Hare

Every hindi daily recite om jai jagish hare aarti in eve. We recite this prayer with full dedication remembering god and to ask them to take our sorrows and give happiness a lot to our family, specially kids.

Om Jai Jagdish Hare
Om Jai Jagdish Hare

  आरती श्री जगदीशजी

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी ! जय जगदीश हरे।

भक्त जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

 ॐ जय जगदीश हरे।

 जो ध्यावे फल पावे, दुःख विनसे मन का।

 स्वामी दुःख विनसे मन का।

सुख सम्पत्ति घर आवे, कष्ट मिटे तन का॥

 ॐ जय जगदीश हरे।

 मात-पिता तुम मेरे, शरण गहूँ मैं किसकी।

 स्वामी शरण गहूँ मैं किसकी।

 तुम बिन और न दूजा, आस करूँ जिसकी॥

 ॐ जय जगदीश हरे।

 तुम पूरण परमात्मा, तुम अन्तर्यामी।

 स्वामी तुम अन्तर्यामी।

 पारब्रह्म परमेश्वर, तुम सबके स्वामी॥

 ॐ जय जगदीश हरे।

तुम करुणा के सागर, तुम पालन-कर्ता।

 स्वामी तुम पालन-कर्ता।

 मैं मूरख खल कामी, कृपा करो भर्ता॥

 ॐ जय जगदीश हरे।

तुम हो एक अगोचर, सबके प्राणपति।

 स्वामी सबके प्राणपति।

 किस विधि मिलूँ दयामय, तुमको मैं कुमति॥

 ॐ जय जगदीश हरे।

दीनबन्धु दुखहर्ता, तुम ठाकुर मेरे।

 स्वामी तुम ठाकुर मेरे।

 अपने हाथ उठा‌ओ, द्वार पड़ा तेरे॥

 ॐ जय जगदीश हरे।

विषय-विकार मिटा‌ओ, पाप हरो देवा।

 स्वमी पाप हरो देवा।

 श्रद्धा-भक्ति बढ़ा‌ओ, सन्तन की सेवा॥

 ॐ जय जगदीश हरे।

श्री जगदीशजी की आरती, जो कोई नर गावे।

 स्वामी जो कोई नर गावे।

 कहत शिवानन्द स्वामी, सुख संपत्ति पावे॥

 ॐ जय जगदीश हरे।

Om Jai Jagdish Hare
Om Jai Jagdish Hare
Posted on

Aarti Shri Hanumanji -आरती श्री हनुमानजी – Hanuman Aarti in Hindi and English

hanuman ji aarti hindi

Aarti Shri Hanumanji -आरती श्री हनुमानजी – Hanuman Aarti in Hindi and English

हनुमान जी आरती मंगलवार के दिन की जाती है और जिस दिन हनुमान जयंती होती है उस दिन| कई लोग तो रोज भगवान् हनुमान जी की पूजा करते हैं खासकर मर्द लोग | कहते हैं की रोज संकटमोचन हनुमान  जी का पूजन अगर आप रोज करेंगे तो आपका हर संकट दूर होगा | जब भी आप को डर लग रहा हो हनुमान जी को याद करे और उनके आरती और चालीसा  पड़े आपका सब डर दूर हो जायेगा | ये सच है आजमा के देखना |

 

Hanuman aarti in english

hanuman ji aarti english
hanuman ji aarti english

Aarti Shri Hanumanji

Aarti Kije Hanuman Lala Ki। Dusht Dalan Ragunath Kala Ki॥

Jake Bal Se Girivar Kaanpe। Rog Dosh Ja Ke Nikat Na Jhaanke॥

Anjani Putra Maha Baldaaee। Santan Ke Prabhu Sada Sahai॥

De Beera Raghunath Pathaaye। Lanka Jaari Siya Sudhi Laaye॥

Lanka So Kot Samundra-Si Khai। Jaat Pavan Sut Baar Na Lai॥

Lanka Jaari Asur Sanhare। Siyaramji Ke Kaaj Sanvare॥

Lakshman Moorchhit Pade Sakaare। Aani Sajeevan Pran Ubaare॥

Paithi Pataal Tori Jam-kaare। Ahiravan Ke Bhuja Ukhaare॥

Baayen Bhuja Asur Dal Mare। Daahine Bhuja Santjan Tare॥

Sur Nar Muni Aarti Utare। Jai Jai Jai Hanuman Uchaare॥

Kanchan Thaar Kapoor Lau Chhaai। Aarti Karat Anjana Maai॥

Jo Hanumanji Ki Aarti Gaave। Basi Baikunth Param Pad Pave॥

Hanuman aarti in hindi

hanuman ji aarti hindi
hanuman ji aarti hindi

आरती श्री हनुमानजी

आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की॥

जाके बल से गिरिवर कांपे। रोग दोष जाके निकट न झांके॥

अंजनि पुत्र महा बलदाई। सन्तन के प्रभु सदा सहाई॥

दे बीरा रघुनाथ पठाए। लंका जारि सिया सुधि लाए॥

लंका सो कोट समुद्र-सी खाई। जात पवनसुत बार न लाई॥

लंका जारि असुर संहारे। सियारामजी के काज सवारे॥

लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे। आनि संजीवन प्राण उबारे॥

पैठि पाताल तोरि जम-कारे। अहिरावण की भुजा उखारे॥

बाएं भुजा असुरदल मारे। दाहिने भुजा संतजन तारे॥

सुर नर मुनि आरती उतारें। जय जय जय हनुमान उचारें॥

कंचन थार कपूर लौ छाई। आरती करत अंजना माई॥

जो हनुमानजी की आरती गावे। बसि बैकुण्ठ परम पद पावे॥

Posted on

Vaishno Mata Aarti in Hindi and English

aarti vaishno devi aarti hindi

Vaishno Mata Aarti in Hindi and English

Aarti vaishno devi aarti hindi

aarti vaishno devi aarti hindi
aarti vaishno devi aarti hindi

आरती श्री वैष्णो देवी

जय वैष्णवी माता, मैया जय वैष्णवी माता।

हाथ जोड़ तेरे आगे, आरती मैं गाता॥

शीश पे छत्र विराजे, मूरतिया प्यारी।

गंगा बहती चरनन, ज्योति जगे न्यारी॥

ब्रह्मा वेद पढ़े नित द्वारे, शंकर ध्यान धरे।

सेवक चंवर डुलावत, नारद नृत्य करे॥

सुन्दर गुफा तुम्हारी, मन को अति भावे।

बार-बार देखन को, ऐ माँ मन चावे॥

भवन पे झण्डे झूलें, घंटा ध्वनि बाजे।

ऊँचा पर्वत तेरा, माता प्रिय लागे॥

पान सुपारी ध्वजा नारियल, भेंट पुष्प मेवा।

दास खड़े चरणों में, दर्शन दो देवा॥

जो जन निश्चय करके, द्वार तेरे आवे।

उसकी इच्छा पूरण, माता हो जावे॥

इतनी स्तुति निश-दिन, जो नर भी गावे।

कहते सेवक ध्यानू, सुख सम्पत्ति पावे॥

 

Vaishno Mata Aarti in English

aarti vaishno devi english
aarti vaishno devi english

 

Jai Vaishnavi Mata, Maiya Jai Vaishnavi Mata।

Hatha Joda Tere Age, Aarti Main Gata॥

Shisha Pe Chhatra Viraje, Muratiya Pyari।

Ganga Bahati Charanana, Jyoti Jage Nyari॥

Brahma Veda Padhe Nita Dware, Shankara Dhyana Dhare।

Sevaka Chanwara Dulavata, Narada Nritya Kare॥

Sundara Gufa Tumhari, Mana Ko Ati Bhave।

Bara-Bara Dekhana Ko, Ai Maa Mana Chave॥

Bhavana Pe Jhande Jhulen, Ghanta Dhwani Baje।

Uncha Parvata Tera, Mata Priya Lage॥

Pana Supari Dhwaja Nariyala, Bhenta Pushpa Meva।

Dasa Khaden Charanon Mein, Darshana Do Deva॥

Jo Jana Nishchaya Karake, Dwara Tere Ave।

Usaki Ichchha Purana, Mata Ho Jave॥

Itani Stuti Nisha-Dina, Jo Nara Bhi Gave।

Kahate Sevaka Dhyanu, Sukha Sampatti Pave॥

 

I hope you liked  Vaishno Devi Aarti In Hindi With Lyrics ,Shri Vaishno Mata ki Aarti, Aarti Vaishno Devi ji ki,  vaishno devi aarti. , वैष्णो माता की आरती, Vaishno devi aarti , Jai Mata Di Aarti Vaishno Mata Ki Arti Aarti Vaishno Mata Ki Arti , Vaishno Mata Ki Arti , Vaishno Devi Ji Ki Aarti. Do like and share.

 

JAI MATA JI

Posted on

गायत्री माता आरती – Gayatri Mata Aarti

Gayatri Mata Aarti

गायत्री माता आरती – Aarti Song- Gayatri Mata Aarti – Goddess Gayatri Aarti In Hindi – Gayatri Aarti Lyrics in Hindi

दोस्तों में आपके लिए आज गायत्री माता की आरती लेके आये हूँ ताकि जब भी आप माँ गायत्री के पूजा अर्चना करे आपके पास उनके आरती हो|   आप बस मेरी पोस्ट को बुकमार्क करे और जब चाहे तब मेरे पोस्ट खोले और गायत्री माता की आरती पढ़ ले|

 श्री गायत्रीजी की आरती

आरती श्री गायत्रीजी की।

 ज्ञानदीप और श्रद्धा की बाती।

 सो भक्ति ही पूर्ति करै जहं घी की॥

 आरती श्री गायत्रीजी की॥

 मानस की शुचि थाल के ऊपर।

 देवी की ज्योत जगै, जहं नीकी॥

 आरती श्री गायत्रीजी की॥

 शुद्ध मनोरथ ते जहां घण्टा।

 बाजैं करै आसुह ही की॥

 आरती श्री गायत्रीजी की॥

 जाके समक्ष हमें तिहुं लोक कै।

 गद्दी मिलै सबहुं लगै फीकी॥

 आरती श्री गायत्रीजी की॥

 संकट आवैं न पास कबौ तिन्हें।

 सम्पदा और सुख की बनै लीकी॥

 आरती श्री गायत्रीजी की॥

 आरती प्रेम सौ नेम सो करि।

 ध्यावहिं मूरति ब्रह्म लली की॥

 आरती श्री गायत्रीजी की॥

मुझे उम्मीद है की आपको गायत्री माता आरती ,Aarti Song, Gayatri Mata Aarti , Goddess Gayatri  Aarti In Hindi ,Gayatri Aarti Lyrics in Hindi ,Aarti Gayatri Ki जरुर काम आयेगी |

Posted on

खाटू श्याम जी की आरती – Khatu Shyam Ji Ki Aarti- Shyam Baba – Khatu Shyam Ji Aarti

Khatu Shyam Ji Ki Aarti

खाटू श्याम जी की आरती – Khatu Shyam Ji Ki Aarti- Shyam Baba – Khatu Shyam Ji Aarti

खाटू श्याम जी एक और नाम से जाने जाते हैं और वो है शीश दान | उनको श्री कृष्णा ने वरदान दिया था कि उनको उनके नाम श्याम के नाम से जाना जायेगा और उनके घर घर पूजा होगी | उनका असली नाम वीर बर्बरीक | आज भारत में उनके कई प्रतिष्ठित मंदिर हैं  और हाजो की संख्या  में श्रद्धालु|

श्री खाटू श्यामजी की आरती / Khatu Shyam Ji Ki Aarti

ॐ जय श्री श्याम हरे, बाबा जय श्री श्याम हरे।

खाटू धाम विराजत, अनुपम रूप धरे॥

ॐ जय श्री श्याम हरे॥

रतन जड़ित सिंहासन, सिर पर चंवर ढुरे।

तन केसरिया बागो, कुण्डल श्रवण पड़े॥

ॐ जय श्री श्याम हरे॥

गल पुष्पों की माला, सिर पर मुकुट धरे।

खेवत धूप अग्नि पर, दीपक ज्योति जले॥

ॐ जय श्री श्याम हरे॥

मोदक खीर चूरमा, सुवरण थाल भरे।

सेवक भोग लगावत, सेवा नित्य करे॥

ॐ जय श्री श्याम हरे॥

झांझ कटोरा और घड़ि़यावल, शंख मृदंग धुरे।

भक्त आरती गावे, जय-जयकार करे॥

ॐ जय श्री श्याम हरे॥

जो ध्यावे फल पावे, सब दुःख से उबरे।

सेवक जन निज मुख से, श्री श्याम-श्याम उचरे॥

ॐ जय श्री श्याम हरे॥

‘श्री श्याम बिहारीजी’ की आरती, जो कोई नर गावे।

कहत ‘आलूसिंह’ स्वामी, मनवांछित फल पावे॥

ॐ जय श्री श्याम हरे॥

तन मन धन सब कुछ है तेरा, हो बाबा सब कुछ है तेरा।

तेरा तुझको अर्पण, क्या लोग मेरा॥

ॐ जय श्री श्याम हरे॥

जय श्री श्याम हरे, बाबा जी श्री श्याम हरे।

निज भक्तों के तुमने, पूरण काज करे॥

ॐ जय श्री श्याम हरे॥

जब भी ये आरती आप पड़े मेरे  इस पोस्ट को जरुर लिखे और शेयर करे| खाटू श्याम जी आपका भला करे |

 

Posted on

दुर्गा माँ की आरती – Durga Aarti in Hindi and English

durga maa arti english

दुर्गा माँ की आरती – Durga Aarti – Durga Ji ki Aarti- Durga Aarti in Hindi -Durga Maa Aarti – Maa Durga Aarti

Durga Aarti : जय माँ दुर्गा | आपके लिए मैंने ये आरती एक चित्र के रूप में और लिखित रूप में लिखी है | उम्मीद है की  माँ की आरती का चित्र आपको पसंद आयेगा और आप इसका जरुर इस्तेमाल करेंगे माता को याद करने के लिए और उनकी पूजा करने के लिए |

Durga Aarti In English

durga ma english
durga ma english

Ambe Tu Hai Jagadambe Kali, Jai Durge Khappara Wali,

 Tere Hi Guna Gaven Bharati,

O Maiya Hama Saba Utare Teri Aarti।

 

 Tere Bhakta Jano Para Mata Bhira Padi Hai Bhari।

 Danava Dala Para Tuta Pado Maa Karake Sinha Sawari॥

 Sau-Sau Sihon Se Balashali, Hai Ashta Bhujaon Wali,

 Dushton Ko Tu Hi Lalakarati।

 O Maiya Hama Saba Utare Teri Aarti॥

 

 Maa-Bete Ka Hai Isa Jaga Mein Bada Hi Nirmala Nata।

 Puta-Kaputa Sune Hai Para Na Mata Suni Kumata॥

 Saba Pe Karuna Darshane Wali, Amrita Barasane Wali,

 Dukhiyon Ke Dukhade Nivarati।

O Maiya Hama Saba Utare Teri Aarti॥

 

 Nahin Mangate Dhana Aur Daulata, Na Chandi Na Sona।

 Hama To Mangen Tere Charanon Mein Chhota Sa Kona॥

 Sabaki Bigadi Banane Wali, Laja Bachane Wali,

 Satiyon Ke Sata Ko Sanwarati।

 O Maiya Hama Saba Utare Teri Aarti॥

 

 Charana Sharana Mein Khade Tumhari, Le Puja Ki Thali।

 Varada Hasta Sara Para Rakha Do Maa Sankata Harane Wali॥

 Maa Bhara Do Bhakti Rasa Pyali, Ashta Bhujaon Wali,

 Bhakton Ke Karaja Tu Hi Sarati।

 O Maiya Hama Saba Utare Teri Aarti॥

 

Durga Aarti In Hindi

आरती श्री दुर्गाजी

durga ma english
durga ma english

अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली,

तेरे ही गुण गावें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती।

तेरे भक्त जनो पर माता भीर पड़ी है भारी।

दानव दल पर टूट पड़ो माँ करके सिंह सवारी॥

सौ-सौ सिहों से बलशाली, है अष्ट भुजाओं वाली,

दुष्टों को तू ही ललकारती।

ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥

माँ-बेटे का है इस जग में बड़ा ही निर्मल नाता।

पूत-कपूत सुने है पर ना माता सुनी कुमाता॥

सब पे करूणा दर्शाने वाली, अमृत बरसाने वाली,

दुखियों के दुखड़े निवारती।

ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥

नहीं मांगते धन और दौलत, न चांदी न सोना।

हम तो मांगें तेरे चरणों में छोटा सा कोना॥

सबकी बिगड़ी बनाने वाली, लाज बचाने वाली,

सतियों के सत को संवारती।

ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥

चरण शरण में खड़े तुम्हारी, ले पूजा की थाली।

वरद हस्त सर पर रख दो माँ संकट हरने वाली॥

माँ भर दो भक्ति रस प्याली, अष्ट भुजाओं वाली,

भक्तों के कारज तू ही सारती।

ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥

 

Posted on

श्री सत्यनारायण देव जी की आरती – Satyanarayan Aarti in Hindi

aarti satyanaryan ji ji aarti

श्री सत्यनारायण देव जी की आरती – Satyanarayan Ji Ki Aarti- Satyanarayan Aarti – Satyanarayan Aarti in Hindi

श्री सत्यनारायण देव जी की प्रभावशाली कथा करे और फिर सत्यनारायण देव जी की आरती पुरी श्रधा और मन से गाये और उनको प्रसन्न करे उनके आशीर्वाद पाए| आपके सभी दुःख दूर हो जायेंगे | बस आपसे एक बात कहनी है कि जब भी सत्यनारायण देव जी की आरती गाये हमेशा पूरी श्रधा से करे और पूरा ध्यान पूजा में हे लगाये|

aarti satyanaryan ji ji aarti
aarti satyanaryan ji ji aarti

आरती श्री सत्यनारायणजी

जय लक्ष्मीरमणा श्री जय लक्ष्मीरमणा।

 सत्यनारायण स्वामी जनपातक हरणा॥

जय लक्ष्मीरमणा।

रत्नजड़ित सिंहासन अद्भुत छवि राजे।

नारद करत निराजन घंटा ध्वनि बाजे॥

 जय लक्ष्मीरमणा।

प्रगट भये कलि कारण द्विज को दर्श दियो।

 बूढ़ो ब्राह्मण बनकर कंचन महल कियो॥

 जय लक्ष्मीरमणा।

दुर्बल भील कठारो इन पर कृपा करी।

चन्द्रचूड़ एक राजा जिनकी विपति हरी॥

 जय लक्ष्मीरमणा।

वैश्य मनोरथ पायो श्रद्धा तज दीनी।

सो फल भोग्यो प्रभुजी फिर स्तुति कीनी॥

 जय लक्ष्मीरमणा।

भाव भक्ति के कारण छिन-छिन रूप धर्यो।

 श्रद्धा धारण कीनी तिनको काज सर्यो॥

 जय लक्ष्मीरमणा।

ग्वाल बाल संग राजा वन में भक्ति करी।

 मनवांछित फल दीनो दीनदयाल हरी॥

 जय लक्ष्मीरमणा।

चढ़त प्रसाद सवाया कदली फल मेवा।

 धूप दीप तुलसी से राजी सत्यदेवा॥

 जय लक्ष्मीरमणा।

श्री सत्यनारायणजी की आरती जो कोई नर गावे।

 कहत शिवानन्द स्वामी मनवांछित फल पावे॥

जय लक्ष्मीरमणा।

I hope this aarti will help you a lot. Do like and share it.